Saturday, 31 December 2011

Happy 2012

There is a definate  way my heart thinks around any important days, like today as the year 2011 finishes and 2012 starts, it is happy and sad . Its happy coz it has been a good year for me, but it is sad, because it has been a good year for me. It is scared what 2012 will bring?
Hope it brings happiness for everybody.
Right now wishing a very happy new year to myself. (being selfish)

यह दिल है की मानता नहीं...........

Friday, 30 December 2011

Faraz.

आज भी इन्तिज़ार मैं दिन गुजर जायेगा
मसरूफ लोग अपनी मर्ज़ी से और मगरूर लोग 
अपने मतलब पे याद किया करते हैं.(फ़राज़)





Thursday, 29 December 2011

धड़कन

धड़कन तुम कहो की कुछ उदास सी क्यूँ हो
थक गयी हो गर धडकने से तो थोडा रुक जाओ...........


यह जिंदगी हमारी ,
जो जिंदगी से कम है  
किसने क्या था पैदा,
किसने किया था जारी
यह मेरी -तुम्हारी  कहानी
यह मेरी -तुम्हारी  जुदाई
यह हमने किया थे पैदा
यह हमने किया था जारी
जीना बुरा नहीं है
कितना भी दुःख भरा हो
कितना भी  बेमज्ज़ा हो
यह जिंदगी हमारी
जो जिंदगी से कम है
मुझको भी है जीना
तुझको भी है जीना
आओ आज जीयें हम
परछाइयों   से निकल कर
वो जो कल था तुम्हारा
वो जो कल था हमारा
पीछे चला गया  है
आज, जो हमारा
बाजु में  आ खड़ा है
आओ इसे गले लगा लें
आओ आज जीयें हम
परछाइयों  से निकल कर
यह जिंदगी हमारी
जो जिंदगी से कम है .....






Tuesday, 27 December 2011

तेरी याद न बह जाए कहीं.....

दिल में एक तीर सा फंसा है कहीं
लहू के साथ ही तेरी याद न बह जाए कहीं.....

The family.....

The  family, i see,
is not the one i was born in
I suddenly found myself in
and we all build up
and become sisters, brothers
mothers, fathers
and we all sit around
and talk about our pasts
the pasts are different
but the present was same
the family becomes the backbone
to support the dream
the laugh, the tear, the pain
the happiness of the little one.
the family grows
the little ones play
the family fits
everyone inside..........
The family survives........










Monday, 26 December 2011

दिल

कभी तुमसे किया वादा कभी खुद से किया वादा
हर बार दिल को याद दिलाना पड़ता है ..........

Friday, 23 December 2011

दिल

हमको  मालूम इतना की आप कितने  व्यस्त से हैं
दिल को मेरे, यह समझा कर जाना था......




Thursday, 22 December 2011

dil


दिल  सुलगता है, सिसकता है और रोता है
बस एक हम हैं की कुछ कह नहीं पाते..........



साया मेरा,

साया मेरा, कुछ रूठ सा गया है मुझसे
हर मोड़ पे वो साथ तुम्हारे जाता है............

Tuesday, 20 December 2011

मेरी मुस्कान


मेरी मुस्कान भी कहीं बेठी होगी
तुम्हारे साथ ही हाँथ मेरा उसने छोड़ा था...

Monday, 19 December 2011

suraj

क्या सूरज ने आज फिर छुट्टी की है?
या फिर किसी डाल पर  ऊँघता होगा.....
रोज , हर रोज,टूटे ही दिन, प्यासी शाम ,
दिल के किसी दर्द से बोझिल सोया होगा....



बात सिर्फ इतनी है

बात सिर्फ इतनी है 
की बस इतनी सी बात है
तेरे अलफ़ाज़ को हमने ही
वादा समझ लिया...........
तू कह  चुका  कई बार
की कल देखेंगे..
हमने ही अपने आज को
कल समझ लिया......

Sunday, 18 December 2011

मेरा दिल

करो इंतज़ार मेरा, कहा है उसने.
मेरा दिल चौखट पर सर झुकाय बैठा है ...........

फिर तुम्हे हाले दिल सुनाया न गया.

मेरी मुस्कराहट  देख कर जो हँस पड़े थे तुम
फिर तुम्हे  हाले दिल सुनाया न गया.............

Saturday, 17 December 2011

Love (My little baby)

Love has gone
in the storm
It does not feel the hail
the thunder, the rain,
the grumpyness of the sky.
Love just sees
the time, the wait
the delay, the traffic
love does not see the crowd
the busy people ,the packed shops
It feels the world in the arm around
It just feels the touch by following behind
Love lights up layers of eyes,
Love sparkle the corners of smile
Love walks a different world
Loves lives a different life.




हम-तुम


तुम न आते जिंदगी में  तो अच्छा था
वो  मेरा जीना, हर रोज मर जाने से  तो अच्छा था

Friday, 16 December 2011

हम-तुम


आज सिरहाने से उठ कर
चली गयी तुझसे मिलने 
की चाह 
रहो बेखबर इस तरह 
की याद न करे तुमको 
मेरी याद

dost. (written by unknown0


कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं
कह देना कोई ख़ास नहीं.

एक दोस्त है कच्चा पक्का सा
एक झूठ है आधा सच्चा सा
जज़्बात को ढके एह पर्दा बस
एक बहाना है अच्छा अच्छा सा

जीवन का एक ऐसा साथी है
जो पास होकर भी पास नहीं
कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं
कह देना कोई ख़ास नहीं.

हवा का एक सुहाना झोंका है

कभी नाज़ुक तो कभी तूफ़ान सा
शक्ल देख जो नजरे  झुका ले
कभी अपना तो कभी बेगाना सा

ज़िन्दगी का एक ऐसा हमसफ़र
जो समंदर है पर दिल के पास नहीं
कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं
कह देना कोई ख़ास नहीं.

एक साथी जो अनकही कुछ बाते कह जाता है

यादों में जिसका धुंधला चेहरा रह जाता है
यू तो उसके न हनी का कुछ गम नहीं
पर कभी आंसू बन गिर जाता है

यूँ रहता तो मेरे तसव्वुर में है
पर इन आँखों को उसकी तालाश नहीं
कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं
कह देना कोई ख़ास नहीं.


Thursday, 15 December 2011

chahat.

अभी तो चाहत हूँ तुम्हारी.
जब जरूरत मैं बन जाउंगी
तब हिसाब कर लेंगे............

Wednesday, 14 December 2011

kismat what rubbish

यह क्या बात है की मेरी किस्मत में नहीं है तू
तू कहे आज, तो अपनी किस्मत बदल दूँ ........

Tuesday, 13 December 2011

जरा सी नींद क्या आ गयी
चाँद बादलों में जा छुपा.............

Mediatation Vs Confusion

Such intensity, today, was kind of scary. the question was WHO AM I? Have I not been asking this question for so long.So who am I. This body that  i have , has been changing since I have known her. it was a dark skinned very thin girl with a frown on her face all the time.I still can see that frown, it was troublesome time for a innocent girl, but it survived and grew into this "don't mess with me "  look ,
Inside i have always been scared, so very scared, mainly of people. I dont really trust people, still i am very trusting,i want to trust people, but there is always this nagging doubt about them which kind of makes me to be kept away.
Garkhi said today that we all feel that we are special.... that is atleast one similarities which we all have. she also said, that nothing is real, what ever we feel or do is not real, our body is  an illusion, it is generally what we want others to see us , we want others to like us so we pretend most of the time to be good and we hide , if it is bad.. So WHO AM I????????

Monday, 12 December 2011

मन

मैं  रोज तकिये के नीचे से
सपने निकाला करती हूँ
रोज रात, अपने मन को
नई कहानी सुनाया करती हूँ
वो ऐसा है , वो वैसा है
मेरे मन , तू बिलकुल उसके जैसा है
वो चला गया तो क्या हुआ
तुझको तो, पास मेरे ही छोड़ा है
फिर वापस एक दिन आयेगा
हम दोनों को ले जायेगा
 मैं रोज तकिये के नीचे से

सपने निकाला करती हूँ
रोज रात, अपने मन को
नई कहानी सुनाया करती हूँ

Rain washes all.

Rain washes all.
It sits there up in the sky
sipping black coffee
with the cloud
laughing out loud
getting a bit lazy
mocking the sun
thinking what to do
should I leave it for today?
or may be go down once
or just fly away
with the cloud
AND THAN IT SEES ME
It has to come
roaring down suddenly
so eager to tell
its days  and nights..
It touches my hair
my  face and eyes
and it stops.
coz it has to carry
the salty water
out of my eyes.
It touches my lips.
and says its O.K
It takes my hand
and we dance
we jump in the puddle
we run on the road
we laugh out loud
and I come home
and i come home.......








Sunday, 11 December 2011

आग


आज फिर अजीब सी एक आग है मन में 
धुंआ क्यों आँखों से बहा  जाता है
Ubuntu.

 I am what I am because of you.

Saturday, 10 December 2011

मेरे मन का पंछी आज
सूरज को छू लेगा
जल न जाये मन का बदन
 बस इस बात का डर है.....

my experience.

I must write my experience of last week, not to boast but just to remind myself of this experince. last week when I came out of the meditation group, it started raining heavily. I was so calm and so peaceful. Something def. has happened, i feel like a burning glow,inside me, which is warm like melting wax and its lighted up well inside me.we were told in meditation group that we instead of thinking about the world why dont we start thinking about us and the people who are close to us. give them love and respect. I was very happy inside indeed, atleast somethin i am beginning to understand.
than i saw this genteleman who was completely wet in the rain. I drove past and came back and offerd him lift to the train station. when he sat down in the car. i could smell beer  and sweat.
 funny thing  tur mind is now i started thinking,  what have i done, is it right or wrong, what if something happened.......
but then i controlled my mind and i thought its ok you ofered him lift with a good heart.. so i dropped him to the station. to my amazement the gentle man asked "SO how much is it love" and to his amazement i said nothing... its fine..  

Friday, 9 December 2011


नींद ,मेरी टकटकी लगाये 
राह तुम्हारी देखती है.....

Tuesday, 6 December 2011

कुछ पल

कुछ पल की ही तो बात थी
जाने कब जिंदगी निकल गयी
अब बस इंतज़ार है, और मैं हूँ
और दूर धूमिल होते वो
कुछ पल हैं








Pablo Neruda such intensity

“I love you without knowing how, or when, or from where. I love you simply, without problems or pride: I love you in this way because I do not know any other way of loving but this, in which there is no I or you, so intimate that your hand upon my chest is my hand, so intimate that when I fall asleep your eyes close.”
― Pablo Neruda100 Love Sonnets: Cien sonetos de amor

Monday, 5 December 2011

I love you.

I love you
some may not know how much
but what does it matter
and why does it matter
and who does it matter to
you may not know also
but that is the beauty
of my love
it need not be felt
it need not be known
but it is there.
like a faint smell of your breath
like a faint sound of your heart
but it is there.
I can hear it
I can feel it
I know it
that I love you

Sunday, 4 December 2011

याद


तुम जो कहते हो की याद
न करना मुझको
अपनी यादो को पास मेरे
छोड़ कर जाते क्यों हो?

Saturday, 3 December 2011

चाहत

चलो भूल जाओ तुम
मुझको , और मैं तुमको
अपनी चाहत को हम रोज
नए बहाने सिखा देंगे........


Friday, 2 December 2011

हम-तुम

सूरज की किरने
तुमको छू कर
मेरे पास आतीं हैं?
या मुझको छू कर
तुम्हारे पास जाती हैं.?
यह किरने आते -जाते
कभी मिलती हैं क्या ?
क्या यह कहती हैं?
तुम्हारा हाल या मेरा हाल
तुम्हारे दिन और मेरे दिन
तुम्हारी रातें और मेरी राते.
मैं , यह सोच कर खुश हूँ
की चलो कोई तो मिला
हम-तुम बहाने ही सही
हम-तुम फसाने ही सही.






Thursday, 1 December 2011

हम-तुम

खामोश कोई तारा जब आकाश से उतरा होगा
कल रात तुमने, मुझे याद तो किया होगा .....

My world

If you come in my world
Be sure, be very sure
coz when you come
its your wish
but when you leave
will be my wsih
coz,I know I will take
you for that ride
where the waves will come
and just dance for you
and may be talk to you
coz they love talking to us
I am sure I will take you
for that ride, when
a half moon will come down
on the road, and we will
get down from the car
and climb on it.
 and i will take you for that ride
where we see the 
people, from up above
just passing by
but they can't see us
so busy, so damn busy
with this and that.
I will take you for the ride
where , birds will race with us
who can reach the nest first
So be sure, be very sure
when you come in 
my world.

Tuesday, 29 November 2011

है कहाँ की यह दोस्ती की रोज ,
तुमको याद  अपनी दिलाना है ????

दिल


मेरी हंसने का गम दिल ही जानता है,
मेरे रोने की सरगम दिल ही  पहचानता है.........

Monday, 28 November 2011

दिल की आवाज़

कितनी बार,सुनते है सब
टूटती हुई आवाजों को
एक कप टूटा, एक प्याली फूटी
देखो ,दूर कहीं एक सितारा टूटा

दिल जब टूटे कोई न जाने
कोई इस आवाज़ को न पहचाने
हंस कर सब  निपट लेता है दिल
कभी कोने में सिसक लेता है दिल

कही किसी भी भीड़ में
चुपचाप अकेला , रोता है दिल
कभी तनहा, होने पर
मेले में जी लेता है दिल

मैं सुबह सवेरे उठते ही टूटी बाते फ़ेंक आती हूँ
यही कम्बखत दिल है मेरा कभी इसे फ़ेंक नहीं पाती हूँ
अब कहो कहाँ छोड़ दूं मैं इस पागल दिल को
यह है मेरा , मैं हूँ, इसकी मालूम है इस नादान  को.

दिल की आवाज़


















Thursday, 24 November 2011

धड़कन

धडकने जब आपस में बात करती हैं
बेहिचक तुम्हारा नाम जपती हैं
मैं जो कह दूं ,  छोड़ो,अब बहुत हुआ
मुझमे रह कर मुझसे  ही बगावत करती हैं.





Wednesday, 23 November 2011

खवाब ही हो तुम,

खवाब ही हो तुम,
नहीं, तो कहो.
क्यों भोले से लगते हो
प्यारी बातें करते हो
धडकनों  से खेला करते हो
सुबह की आगोश में जाने
कहाँ सोते हो
नींद सी बोझिल आँखों में
रात होते ही, पलकों पे आ जाते हो
मन तुमसे मिलने को
रोज व्याकुल  रहता है
ख्वाब हो तुम , आओगे  आज
येही सोंच कर सोता है
सुबह सवेरे उठाते ही
पहली मुस्कान बन जाते  हो
ख्वाब ही तो हो तुम
पर कहो
रोज क्यूँ नहीं आते हो?











जिंदगी

अच्छा है ,जिंदगी भगदर में कट रही
होते दो पल, जो मेरे पास ,तो  याद आते तुम.......

Monday, 21 November 2011

जिंदगी अब तो पता दे अपना.........

बहुत प्यासा हूँ ,बहुत भूखा हूँ
बहुत भटका हूँ, बहुत तडपा हूँ
बस तुझसे मिलना है बाकी
जिंदगी अब तो पता दे अपना.........

Saturday, 19 November 2011

Khwaab by dr. kumar vishvas


ख़्वाब इतने तो दगाबाज़ न थे मेरे कभी ?
ख्व़ाब इतनी तो मेरी नीँद नहीं छलते थे ?
दिन निकलते ही मेरे साथ-साथ चलते थे,
मैं इन्हें जब भी पनाहों में जगह देता हुआ,
अपनी पलकों की मुडेरों पे सजा लेता था ,
पूरा मौसम इन्ही ख्वाबों की सुगंधों से सजा,
मेरे चटके हुए नग्मों का मज़ा लेता था ,
कुछ हवाओं के परिंदे इन्ही ख़्वाबों में लिपट,
चाँद के साथ मेरी छत पे आ के मिलते थे ,
ये आँधियों को दिखा कर मुराद कि जीभें,
मेरे आखों में चिरागों कि तरह जलते थे ,
और ये आज की शब इनकी हिमाकत देखो,
इतनी मिन्नत पे भी ये एक पलक-भर ना रुके,
इनकी औकात कहाँ ?ये है मुकद्दर का फ़रेब,
इतनी जिल्लत कि मेरे इश्क़ का दस्तार झुके,
ये भी दिन देखने थे आज तुम्हारे बल पर,
ख़्वाब कि मुर्दा रियाया के भी यूँ पर निकले
तुम्हारी बातें, निगह, वादे तो तुम जैसे थे,
तुम्हारे ख्वाब भी तुम जैसे ही शातिर निकले ....

Friday, 18 November 2011

Death of Relationships

I am not worried of death
which comes for me.
I don't care,not bothered too
coz death, is such a good freind
it spare no moment
for you to be sad,
or be hurtfull.
what do they say...?
ya, once you are dead
YOU ARE DEAD

But its the slow death
of realtionships that
hurts me.
a life time passes by
to think and notice
what went wrong.
A lifetime passes by
and you see the crumbling
death infront of your eye
its stays there,
but actually not there

A life time passes by
to see a reationship die........




Thursday, 17 November 2011

Its ok......

so , its ok you are not my love
so,  its ok you dont belong
so, its ok to live without you
just that, people dont understand
how i live and breathe without you
how i laugh and cry without you
how i sleep and dream without you
just that people dont undersatnd
how i walk and dance without you
how i think and talk without you
just that, people dont undersatnd
just that, people dont understand

Monday, 14 November 2011

क्या तुम्हे मालूम है ?(part 3)

क्या तुम्हे मालूम है ?
रात अब कितनी अँधेरी हो उठी है
कही कुछ नजर नहीं आता
कहीं एक दिया भी नहीं जलता
पूरा शहर उदास और वीरान है

याद है तुम्हे, पहले
बारह मॉस , पूनम की रात रहती थी
चाँद, शर्माता -लजाता मेरे
आँचल  में रहता था
तुम और मैं उसे देख
कितना खुश होते थे

अब चाँद रोज  महज़
शहर घुमने आता है,

ओ मेरे सुख-दुःख के साथी
क्या तुम्हे मालूम है?
की मैं खुश हूँ 
की दुखी हूँ ????????


क्या तुम्हे मालूम है ?



क्या तुम्हे मालूम है ? (Part 2)

क्या तुम्हे मालूम है ?
कब दोपहर होती है?
और सूरज आग-बबूला हो
मेरी खिड़की में आ खड़ा होता है
जैसे कहता हो .
की बस मेरे कारण आना पड़ा
की कब दिन हो, शाम हो ,और रात हो
और एक बरस बीत जाये


याद है तुम्हे ,पेहले
खिड़की, में सिर्फ मैं ही रहती थी
तुम्हारा इंतज़ार करती
सूरज मुझसे मुह  छुपाये 
भागा जाता था

क्या तुम्हे मालूम है
फिर शाम आ गयी है
जाने क्यूँ काली काली सी लगती है शाम
पेहले तो , कभी गुलाबी, कभी लाल-पीली
साड़ी पहने मेरे साथ घुमती थी
और सदा हँसती रहती थी शाम








क्या तुम्हे मालूम है ?

क्या तुम्हे मालूम है ?
कब सुबह होती है ?
और सूरज मुह फुलाये आता है
जैसे कहता है रोज
की फिर एक बार आना पड़ा


और मैं भरी चाय की प्याली ले
यादों की दरिया में  
दस बार नहाती हूँ
तब भी तुम नहीं आते

याद है तुम्हे मेरी वो खिट-पिट
तुम . खीजते- खिजाते उठ कर
चाय और मेरी सौतन के साथ
बाथरूम में चले जाते थे
और मैं बाहर, मुस्कराती 
और इंतज़ार करती थी


अब सुबह युही आती है 
और चली जाती है
सूरज भी, महज
दुनियादारी निभाने आता है
सिर्फ मैं अपनी चाय लिये
यादों की दरिया में
दस बार नहाती हूँ














सूरज

सुनो
तुम जो आसमान में रहते हो
बादलों में  छुपते हो
मैं जानती हूँ
तुम , मुझसे प्यार करते हो
सुनो
कभी अपने उजाले से
निकल मेरे अंधेरों में आओ
और बेठो  और देखो
अंधेरे मन में , तुम्हारा 
उजाला ,आग लगता है,
सुनो
ध्यान देना
कहीं मेरे होठों की सुर्ख़ियों
में तुम्हारा ताप खो न जाये?
ध्यान रखना
कहीं मेरे आगोश में 
रात हो न जाये?
तुम तो सूरज हो
चमका करो, रोज दिन में
मैं धरती हूँ ...
जीती हूँ बस चाहत में





Thursday, 10 November 2011

दुःख और सुख


दुःख और सुख में
रिश्ता कुछ  पुराना है
आधे अधूरे शब्द बेचारे
हर रोज मुझे बुलाते हैं
अपने होने,और मेरे होने
का जश्न यही मानते हैं

दुःख अक्सर सुख को ,
पास मेरे रख कर  जाता है
सुख, मुझे अकेला हंसते,
देख मन से दुखी हो जाता है

रोज यहीं  चौखट पर
सुख और दुःख
आते जाते मिलते हैं
ध्यान रखना इस  पगली का
एक दूजे को  कहते हैं

मैं  भी अनचाहे, युहीं अक्सर
मन ही मन समझती हूँ
दुःख आया, है  तो
पास ही, होगा सुख भी
सुख आया तो चौखट
पर अटका है दुःख भी 

Monday, 7 November 2011

मैं आज जब चाँद को बताने लगी

मैं आज जब चाँद को बताने लगी
उनसे मिलने के  कई नये अंदाज
चाँद मुस्करा कर शरमा कर
बादलों में छुप गया,

मैं हर रोज नयी दुल्हन बनी
मन की खिड़की में बैठी रही
चाँद भी रोज चुप-चाप ,
आधा- अधुरा होता रहा

है चाँद ही हमसफ़र मेरा
दोस्त भी , प्यार भी
मिल -जुल कर सुलगते हैं
हम रोज आशिको की तरह .......







छोड़ आते हो यादें मेरी.


मैं हर रोज तस्वीर अपनी
तुम्हरी धड़कन  में टांग आती हूँ
और तुम हर रोज, हर राह पर
छोड़ आते हो यादें मेरी.

Thursday, 3 November 2011

My heart.

No questions asked
do you remember how 
I walked behind you...
my body draped in the 
red and golden saree
and my soul
completely naked of any thoughts
No past, no future,
just a tiny red dot on my head
No question asked
I walked behind you and
climbed the stairs,
the room , the bed
and stayed and prayed
and lived in the corner 
of my heart, 
wishing and praying,
laughing and crying 
for the good and bad
No question asked
I have lived a lot
traveled a lot,
lost and found some friends 

NOW, Lately....
The corner of my heart
asks me, every day
WHO ARE YOU??
HOW LONG WILL YOU STAY??

Sunday, 30 October 2011

A Gift.


तुम्हे किस बात का डर है , जाने किस बात का डर हैं
अभी तुमसे मिला नहीं , बस बिछर जाने का डर है


तजुर्बा बेशक सिखलागा ,गलतियाँ दोहराने का डर है
अभी अभी सवेरा था, बस रात होने का डर है


सोना चाहता हूँ बहुत बस नींद के आने का डर है
आंखे बंद कर लूँ मगर ख्वाब आने का डर है


पहुँच चूका हूँ वहां बस मंजिल मिल जाने का डर है
रास्ते मिले बहुत ,उनमे भटक जाने का डर है


सांस तो बाकी है जिन्दा रहने का डर है
मौत आजाये अभी , रूह के भटकने का डर है














हम-तुम

हम-तुम 

हम तो ऐसे ही तुम्हे याद किया करते हैं
तुम कहो हमारी यादे कहाँ भूल आते हो ?  

Thursday, 27 October 2011

एक मोड़

एक मोड़  खड़ी उदास सी 
जाकर मिलती है चौराहे से
संकुचित सी , अकेली सी
डरती है , जमाने से.........
किन लोगों से मिलना होगा
किन लोगों का सहना होगा
आते जाते कितने लोग 
रोंदेंगे  छलनी मन  को
तब ही  रुकना होगा
जब भी रुकेगा चौराहा 
और अगर चला  चौराहा
तब चलना होगा मोड़ को
युही, ऐसे ही बीती है मोड़
युही,  ऐसे ही जीती है मोड़









Wednesday, 26 October 2011

Happy Diwali (Monu is not here)

दीयों की लम्बी कतार,
इंतज़ार कर , फिर बात करती है
जलते  रहना, दिवाली की रात
अपनी भी बारी आई है.........

Monday, 24 October 2011

हम-तुम

चलो अच्छा हुआ जो छुट गया
तेरा, मुझसे मिलना  और बिछरना 
अब हर रोज, कभी-कभी  
आदतन, तुझे  याद करेंगे हम   






Sunday, 23 October 2011

My heart

oh my heart,
my beautiful heart,
stop breathing,
it hurts, when you breathe
it hurts when you stop
sometimes, i wish
to put you in lock
 visit you and
tell you the stories
of the world around
of the lost love's
and the love's found.
i wish you just could hear
and not feel the sound
of the everyday gloom
i wish i could just touch
and tell, and laugh loud
and you can hear the laugh
but not feel the sad sound
hope you are ok
my heart
my beautiful heart.

Friday, 21 October 2011

हम-तुम

तुम भी तो कुछ कम नहीं
रोज आते रहे , मुझे उठाते रहे
गिर गिर के उठाना
उठ कर चलना
रोज युहीं सिखाते रहे

चलना  है दूर तक
समझता हूँ मैं
गिर गिर के
संभालना है
समझता हूँ मैं

डर है बस इसका की
मैं गिरू और तुम न आओ
मैं चल न पाऊ और
तुम चले जाओ


इस बात का डर है
बस इस बात का डर है...........




The journey of life.

I have always thought on the airports when i am all alone in the crowd, that we all are going in the same plane(destination) yet we dont even know each other. we try our level best not to even see the person sitting next to us . so many souls cross your path and disappear, only few, come closer to you and some are very close, i wish there was this friend, whom i could tell about what i know about myself, as if i had always wanted to climb myself down the throat into the belly and look around myself.
this journey of mine, is standing on a crossroad, I want to choose a road, of my wishes, or is it pre-written destiny, if it is pre-written, why do we put so much effort , in living this pre-written life???? weird na.

Thursday, 20 October 2011

हम-तुम

क्या कहूँ तुमसे, तुम सुनो तो सही
दिल मेरा हर वक़्त धरकता रहता है...
जमाने ने बताया मुझे की तुम खुदा हो गये
कल रात, फिर सपने में कौन आया है.....




Wednesday, 19 October 2011

किस्से

कह तो दिया, की मुझको नहीं
मतलब जमाने से
यह हर रोज मुझे किस्से 
बताती क्यूँ हो?
हर किस्से  का अंजाम मुझे 
मालूम है
रोज वोही किस्से 
तुम बदल के सुनाती क्यूँ हो/



Monday, 17 October 2011

tum aur main

कह दो मुझे की न जाऊं  मैं तुम्हारे पास
कह दो मुझे की याद भी न करूँ तुम्हे
कह दो मुझे की भूल जाओगे तुम भी
कह दो मुझे की साँस भी न लूं आज से....

Wednesday, 12 October 2011

हम-तुम

तुम आँखों को बंद न करना
मैं छलक के फिसल जाउंगी.........
जागती आँखों का सपना हूँ मैं
तुम जो, सो  गये तो कहाँ जाउंगी......








दिल

दिल को फिर दिल से बात कर लेने दो
आज रोको नहीं मुझको प्यार कर लेने दो

अंजाम क्या होगा फिर बैठ के सोचेंगे
अपनी बाँहों के घेरे में सो लेने दो

तुम जो दूर हो मुझसे बहुत दूर
आओ मुझको अपनी सांसो से छू लेने दो





प्यार

तुमने ही तो कहा था तब
की प्यार है मुझसे
अब और, कहाँ जाएँ 
और क्या बात करें...........



Thursday, 6 October 2011

dil

तेरा दिल

यह दिल,
एक बच्चा है
फूलों पे मंडराती तितली को देख मूस्कूराता है
बारिशों मे नहाने की ज़िद करता है
पर बादलों के गरजने पे डरता है ॥
यह
दिल बिलकुल एक बच्चा है
खिल जाता है छोटी सी खुशी से
हंसता है,गिर कर भी
चिड्या के पंखौं मे संगीत सुन्ता है
पर खिलोना टूटने से रोता है
यह दिल कितना सच्चा है
यह दिल बिलकुल एक बच्चा है
See all

Wednesday, 5 October 2011

tumhara dil

कमरे की दीवार पर टंगी है 
तुम्हारा दिल है,  कोई तस्वीर नहीं है
सुनो, जरा दीवार कह रही है
रुको  जरा पास आओ 
देखो मैं थक गयी हूँ
उतार लो इसे 
यह तुम्हारा दिल है
उतार लो इसे
यह भी सुनो  क्या कहती है


यह तुम्हारे सीने से लगती, बटन
जब टूटती है और बिखर जाती है
कह उठती है की आज मत पहनो मुझे 
आज फिर पहन सको 
तो ले जाओ अपना दिल उतार कर
और पहन लो इसे
थक गयी है तुम्हारे इंतज़ार में
हर चीज़ बात करती है
हर  चीज़ बोलती है
ले जाओ,इसे उतार कर
कमरेकी दीवार पर टंगी है 
तुम्हारा दिल है  कोई तस्वीर नहीं है



















Thursday, 29 September 2011

नींद और मौत

नींद और मौत में फर्क
सिर्फ इतना है
कभी कभी जागे हम 
कभी सिर्फ़ सोना है 

की आज आकर उठा न पाओगे हमे
की सो चुके हैं हम
कल तुम जो जागो नींद से 
गुजर चलेंगे हम


मुश्किल में पड़ा है दिल इस बात पर
देंगे किसे अपने गम जो न रहे हम
रोना नहीं , मेरे लिए, मेरे दोस्तों
यहीं कहीं यादों में मिला करेंगे हम









Wednesday, 28 September 2011

हम तुम

हम तुम

धूप  की बातों की तपिश
तुम्हारे लबों की ओस में
लम्बी जुल्फों की छांव में
ठंडे से  पड़ जाते हैं

और मैं चुपचाप सोंचता हूँ
की यह तपिश,यह ओस,और यह छाव
सब तुमसे मिलने का बहाना
कर आते जाते हैं

जिंदगी की घनेरी  धूप   में
एक तुम्ही ही तो हो
छाँव देती, मुस्कराती
आहें भरती और खिलखिलाती

और मैं चुपचाप यह सोंचताहूँ
की यह धूप,  यह आह ,यह मुस्कान
सब तुमसे मिलने का बहाना
कर आते जाते हैं

कभी ऐसा हो ,एक दिन
की मैं और तुम,
यह धूप ,छांव आहें मुस्कान
को गली की नुक्कर्ड पर छोड़ 
कहीं दूर जा 
दो प्याली चाय पियें 
बस हम तुम












हम-तुम


एक टुकड़ा जो तुमने लिया था
रखा है या, खो दिया
हम तो बेठे हैं लेकर अपने
दिल के आधे टुकडे को.........

एक जो मेरा सपना था
सपने में तुम रहते थे 
हम तो बेठे हैं लेकर अपने
टूटे,  बिखेरे सपने को

प्यार है तुमसे, कहती  हूँ मैं
तुम भी कुछ तो बोलो न
हम तो बेठे हैं लेकर अपने
अरमानो की झोली को

Tuesday, 27 September 2011

मैने कब माँगा की तुम मेरी हो
और मैं तुम्हारा होऊं
गैर न हो जाओ
इस बात की चिंता है......

Dharkan

एक धरकन आज जरा कम होगी 
दिल से कुछ भार उतारा है तुमने
एक धरकन आज चैन से सो जाएगी
फिर प्यार से प्यार को बुलाया है तुमने


Monday, 26 September 2011

kabhi Kabhi

I saw the song today after so many years, the song is picturised so beautifully. I felt the pain of a lost love. My god, how do people live, why do people live? after loosing somebody special.

Friday, 23 September 2011

हम-तुम

लहू का रंग आज बदल गया
तेरा साथ क्या छूटा की मै बदल गया 
फिर से मिलने की आस में साँस है चलती 
फिर एक बार,यादों का मौसम बदल गया

एक एसी   प्यास है की जली  जाती है
धूप है , की घनेरी घटा छाई है
मैं और तुम खडे हैं चुपचाप
जिंदगी ने कहीं जाने की कसम खाई है




Wednesday, 21 September 2011

तुम ठीक तो हो ????

मन बड़ा बेचैन सा है
कभी इधर बेठता है
कभी उधर चुप चाप रोता है
खिड़की से झांक कर जाता है
कहता है तुम ठीक तो हो ?

मैं भी यूही दिन रात
मुसाफिर बनी अपने ही घर में 
घुमती हूँ.
रोज चाँद को आते और 
सूरज को जाते देखती हूँ

कभी दो पल मिलते हैं
मैं और मेरा मन
हंस कर टाल  जाते हैं
पलकों के आंसु को
तिनका कर देते हैं.

और पूछते हैं सबसे
तुम ठीक तो हो ????




Tuesday, 20 September 2011

हम तुम

सुखे पत्तों की तरह उड़ गये हम तुम
प्यासे नैनो में भीगे हम तुम
आओ खेले जीवन की हथेली पर
कल और आज के कठपुतली हम तुम






Monday, 19 September 2011

अब जो कर दी जिंदगानी तेरे नाम,
बोल और क्या चाहिए मुझसे तुझको

मिलेंगे फिर कभी हम अगले जीवन में
आखरी  रात  बस सो लेने दे मुझको

याद कर सको तो इतना ही करना
की इश्क के हर रस्म हमने निभाई है

यह अलग बात है, की पूरी नहीं अधूरी है
कहानी तो हर आंसू ने गिर गिर कर सुनाई है



रगों में दौरते, फिरने के हम नहीं कायल
जब आँख से ही न टपका तो फिर लहू क्या है ......

Sunday, 18 September 2011

दिल ने फिर याद किया ....

कतरा कतरा जल  चुका दिल 
बस तुम्हारी याद में

अब धरकना  छोड़ चुका दिल
बस तुम्हारी याद में

हम तो बेठे ,हैं इंतज़ार में
थक न जाये रात-दिन


मुझसे  न पूछो हाल मेरा
मेरी तो  कोई बात नहीं


समझा तो  दो आकर जरा 
तुम्ही दिन-रात को


नहीं आओगे मिलने तुम
आया न करे दिन-रात, भी


कतरा कतरा जल  चुका दिल 
बस तुम्हारी याद में


 

Saturday, 10 September 2011

mirza ghalib

तुम न आए तो क्या सहर[1] न हुई
हाँ मगर चैन से बसर [2] न हुई
मेरा नाला[3]सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई

Friday, 9 September 2011

मोहताज़ नहीं है यह जिंदगी
इंतज़ार के किसी के
यह वक़्त गुजर  ही जाता है
 दो राह पर चल के

Thursday, 8 September 2011

poetry by kumar vishvas

Teri kudrat ka karishma kamaal hai Maula ,
Pahle jiina tha ab marna muhaal hai Maula,
Ishq ke hisse me itni udasiyna kyun hain ?
Bada chhota sa mera ek sawaal hai Maula ..."

Sunday, 4 September 2011

तन्हाई

मैं जब एक अकेली तन्हाई से बाते करती हूँ, तन्हाई, हर बार मुस्करा कर बाते, सुनती है,हर बार बहलाती है
मैं जब अंधेरों में रोया करती हूँ,तन्हाई , कुछ पास से,गुनगुनाती है!और मैं अक्सर यह सोच के घबरा जाती हूँ
की मेरे पास तो मेरी तन्हाई है! मेरी बेचारी तन्हाई पास भी नहीं ! दिन -रात  बिना मतलब घुमती है मेरे आगे पीछे  

problems.

It feels weird when somebody does not want to share their problem with you and you thought that you are so close, or may be you thought that you know it all or maybe that people trust you. It feels weird. what is the point of sharing any sort of thoughts or any sort of feelings, it is usually interpreted in somebody else thoughts.

Today i just hope and wish that i am able to help somebody, any body and that is it. I feel i don't want anything more from life, i feel content.

Wednesday, 31 August 2011

दिल ने फिर याद किया

 दिल के कोने में
रखा है उसको
धरकनो में छुपा कर
जमाने से बचा कर
चाहा है उसको

दिल को क्या मालूम
दुनिया की इज्जाज़त
है लेनी
हर बार धरकने
की कीमत है देनी

दिल तो सिर्फ दिल है
धरकने की गलती कर बैठा
बेवजह मुश्किल में पड़ा
मरने की गलती कर बैठा

आओ सो जाओ मेरे दिल
मेरी गोद में आकर
कल निपट लेंगे दुनिया से
हम दोनों मिलकर




Tuesday, 30 August 2011

wishes


when your wish and my wish
are not fulfilled,
where do they go?
do they break and disappear
or do they fly here and there?
they must have become clouds
or may be stars,
they must have flown  by
might have shaken hands
or a peck on the cheek
do they talk to each other?
maybe promised to meet
what do they say?
How do they talk?
they must have said....
I am a wish
and so am I
so why are you here?
coz I am unfulfilled.
at least they are similar
atleast they are together
because they both are
unfulfilled wishes



Monday, 29 August 2011

इंतज़ार

और कितना प्यार करूँ
और कितना, इंतज़ार करूँ
 मालूम है, तू न लौटेगा कभी
रोज चाँद को क्या बताया करूँ

poetry by gulzar


ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा
क़ाफिला साथ और सफ़र तन्हा

अपने साये से चौंक जाते हैं
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा

रात भर बोलते हैं सन्नाटे
रात काटे कोई किधर तन्हा

दिन गुज़रता नहीं है लोगों में
रात होती नहीं बसर तन्हा

हमने दरवाज़े तक तो देखा था
फिर न जाने गए किधर तन्हा

Saturday, 27 August 2011

चाँद

चाँद जब आज सुबह उठा होगा
आज फिर  उसने क्या सोचा होगा
कितनी दूर अंधेरे में चलता है चाँद
की मिल सकूँ  उसे आज,येही कहता है चाँद




Thursday, 25 August 2011

हम-तुम

तुम्हारा खालीपन, जब मुझको, याद करता है
मेरे दिन रात अधिकतर युहीं  मुस्कराते हैं
जो तुम आवाज़ दो जानम जहाँ भी हो वहां 
मेरा दिल,  मुझसे अलग,गुनगुनता है




   


Monday, 22 August 2011

deepak chopra and me.

i love, deepak chopra, when he writes that their are no coincidence, things happen because they are meant to be, and every thing works towards what sort of person you become .for me, i feel as if life has always decided my future. right from the day its a girl,,,,, i was my dad's blue eyed girl, so beautiful, even though i was not beautiful, so fair, in his eyes even though i was the darkest of the dark. but parents are a different breed. they dont belong to this planet. once you become parent, thats it your life stops theirs begin, untill they are ready to stop theirs, and be a parent.
so here ia m , mu life stopped 22 years ago, i am living, breathing allright, but almost dead. feels like death, wanting to be alive but feeling like dead, great coincdence. huh deepak chopre. seems like you were given everything on the platter, but you were smart enough to maintain the silver platter and not ruin it for youself. can i ask how are your kids???? how are you????

Sunday, 21 August 2011

fucked up

i am just so fucked up, drunk, seeing amithabh bachhan, very handome, amithabh bachhan. its all great. so great.

Blue.

all the shades of grey,
and brown and black
dont keep you apart,
you look the same 
from far far away,
almost like a little child,
running for a favourite game
be natural, be yourself
be blue, o sky
you look beautiful,
when you wear blue
and sometimes
you spread on the bed
with just the white cloud
tiny tredness, slip off your head
and you mutter under your breath
but smile. just smile oh sky
and be blue, o sky
you look beautiful.

Friday, 19 August 2011


चल, चल कर देख दो कदम , संग में
दूसरी दुनिया के रंगीन सफ़र पे
आंसू भी जहाँ प्यारा सा गुलाबी हो
आग हर सीने में बरसाती हो
तितलियां फूलों से आँख मिलाती हो
तारे  हर राह  पर लुभाते हो
चाँद भी कभी दूर बादलों में
उंगली दाबे मुस्कराता हो
चल चल कर देख दो कदम , संग में
जिंदगी कट जाएगी एक ही पल में


Thursday, 18 August 2011

expectations

My friend Claire once told me, never Expect, always  Hope, and things will work out eventually.Today, i am finding it very difficult to swollow. its almost painful, not to expect. I will try to Hope for the best.

jamana (i am upset tonight)


जमाने ने दिये जख्म कुछ एसे 
कभी हम सह नहीं  पाये कभी हम कह नहीं पाये
मुहब्बत की कहानी सुन मेरे  दोस्त
कभी यह रुलाती रही  कभी हम रो नहीं पाये

मचला है सैलाब इन आँखों में इस तरह
कभी मैं रोक  नहीं पाया ,कभी  यह बह नहीं पाये
न जाने कब ख़त्म होगी यह अँधेरी रात
सवेरा  रूठ कर हमसे , हमेशा मुह छुपाये है,



Tuesday, 16 August 2011

मन

आज फिर मन नमकीन सा क्यूँ है
आंसू  सुख गए तकिये की सिलवटो में
प्यार उदास, पड़ा है सिरहाने पर
आँखों में तेरे  धुंआ धुंआ सा क्यूँ है

तुमको तलाश भी ऐसी है जानम
की हर प्याले में शराब ढूंढता चल
मैं चुप रहूँ तो भी  सुनता हूँ तुमको
बोलूं  तो  फिर,क्या मिला जानम

आँख मूंद कर उन सलाखों के पार
जिसका चेहरा नजर आता हो
वो भी तो कैद है कहीं
तकिये की सिलवटों से पूछ लो


mein aur mera dost

सूरज को अंधेरे से बचाऊं कैसे
की हर तरफ आग ही आग है
तू कहे तो छुपा लूँ,मैं सीने में
या आग लगा दूं इस जमाने में
वो यह कहता है की
विशवास नहीं है दोस्ती पर,
तुम्ही कहो की
विशवास दिला दूं कैसे
सूरज को अंधेरे से बचाऊं कैसे



mein aur mera aks

अब मेरे साथ नहीं हूँ मै
आइना भी हैरानी से देखता मुझको
आइना तो एक है टुकङूँ में बट गया हूँ मै

दिन सुभ्हा से खींच कर शाम की ओर लेजाता हुआ
मौत औरv ज़न्दगी अपने अपने हिस्से के लिये लडती हुई
बीखेर कर फैला देतीं हैं मूझे
इंतहा कोशिशों से भी नहीं सिमटा हूँ मै

पहली रात की चादर जैसे
या कहौ जैसे किसी हुस्न कि खूली ज़ुल्फें
कुछ कुचली सी कुछ उलझी सी ज़िन्दगी
बेजान हवा के सहारे जीता हूँ मै

मेरे टुकडौं को रौंधती चल्ती है अपने परायों कि भीड
कभी जान कर कभी अनजाने से कुचलती हुई
देखतें है तो बस मेरा मुसकुराता चहरा



मुझको उदास क्यों देख नहीं पाते
शीशे के बिखरे टुकडे
पूछते हैं अकसर
कि तू मुसकुराता है तो उदास क्यों दिखता है

इन सवालों का कया जवाब दें
कुचला हूँ मसला हूँ टुकडौं मे बट गया हूँ मै
कि अब तो आइना भी हैरानी से देखता मुझको
अब मेरे साथ नहीं हूँ मै

Sunday, 14 August 2011

tulsi

तुलसी का पौधा हो तुम
बोया है हमने तुम्हे
नन्ही सी थी तुम
उगाया है हमने तुम्हे

बोया है तुमने हमे
तुम्ही उखाड़ओगे हमे
तुम्ही भेज दोगे मुझे
किसी और आँगन में सजे

उखाड़ा जब तुमने हमे
रोये  हम छटपटा कर
मत उखारो मत उखारो
तुम्हारी तुलसी हूँ , मत उखारो

तुम भी रोये  छटपटा कर
बोले दुनिया की रीत है यह
बोया है हमने तुम्हे
फेलोगी किसी  और अंगने में

फिर कभी अंगने में
जब चले आंधियां जोर की
कोई उखारे फिर हमे
क्या करेंगे हम रो के भी

फिर कहेंगे छटपटा कर
हमारी जड़े हैं यहीं
मत उखारो मत उखारो
तुम्हारी तुलसी हूँ , मत उखारो

यही कहानी हर तुलसी की
उगती है कहीं बढती है कहीं
रोए उस गमले में भी
रोऐ इस अंगने में भी









बचाया है

Friday, 12 August 2011

Love

What is love?
Is it the pleasure
of the  known
or the desire of unknown
or Is it the pain.
of broken hearts
and the smell of blood drops
Or is it the first rain on the soil?
Or the orange sun on the ground
The soft feeling inside
Or harshnes outside?
To save it
What is yours?
Or to destroy it what was not yours?
To give and forgive
To get and forget
What is love?
Is it blue or red
Or some feelings dead
why is it different
for others and others
how to measure
how to weigh
how to let it go
if not the same.
what is love?

Tuesday, 9 August 2011

relationship

what are relationships, some we are born with, some we make here.most of the time, we live, living up to relationships. we are expected all the time in a certain way, right from the very beginning i was told, that i was a girl and i was expected to act in a certain way.
these expectations continue through out our lives, all of us hold a position and have to stand on one leg, balancing our soul, not to fall, not to go over the edge, not to hurt anyone.we are scared not by others, but by ours... my son, my husband, my daughter, my mom.. so when they are mine why should i be scared of them. because i dont want to hurt them, i want to make them happy, make them proud of me... tic toc, balncing the soul...so much expectations... so if they love me should 'nt they accept me, the way i am ... NO they wont, they all want a perfect wife, a perfect mother, a perfect daughter.. so i have to be perfect, all the time.
so what are relations ships, why do we have to be perfect all the time, to the people who are supposed to be yours. 

Monday, 8 August 2011

एक शाम

यह शाम कुछ अजीब सी है
तेरे रंग से कुछ रंगीन सी है
बादलों में नये  रूप के संग
उडती  फिरू में हर पल
छू कर तुझको लौट आउंगी
या फिर दूर किनारे पे रूक जाउंगी
शाम का आँचल जब गुलाबी हो
और चाँद फिर मतवाला हो
तब धडकने बहकने तक
नींद ,ख्वाब , सुलगने तक
यह शाम तुझ तक जाती है
और नींद मुझे  नहीं  आती है

Friday, 5 August 2011

ek saya

साया हूँ मै, मुझे साया ही रहने दो
स्याही सा लिपट जाता हूँ तुमसे
मुझे अंधेरे में साथ चलने की आदत  है
उजाले की चमक से  डर जाता हूँ
उम्मीद नहीं है तुमसे ,
तब भी यह कभी सोचा तो है
की तू हंसे तो मैं भी मुस्करा दूंगा
कही गिरे तो बीछ जाऊंगा सड़क पर
तू चल दे कही तो मैं भी कही छुप जाऊंगा
साया हूँ  मै, मुझे साया ही रहने दो.........

Thursday, 4 August 2011

ek daurd.

दिल की बेचैनी को  क्या दोष दूँ
यहाँ साँस भी एक मुसीबत में है
है एक जनून की कौन करेगा पहल
तुझ को भुलाने की दौड़  में



Wednesday, 3 August 2011

My mom

my mom, has gone today, and i dont like it. i felt the same pain, when i left my house 25 years ago. she was crying but she did not want any body to see.,today i was crying but i did not want any body to see.
how we live our life i thought, when we cant even express what we really feel.
feelings are real, the  show is unreal,.i wish i could give up the show.i dont want to live this life any more.

Tuesday, 2 August 2011

अपने देश

अपने देश

अब  जा कर क्या करुँगी ?
मेरा गाँव बदल गया
मुझे नहीं बुलाता अपनी ओर
मैं यहाँ रुकी निहारती रही
और जमी खिसक गयी

कल तक पिछवारे की बेल 
भी पुकारती थी
पास जाने पर गले लगाती थी
नुक्कर्ड का चाट वाला भी
चाट के साथ एक मुस्कान 
मेरे  लिये ही बेचता था

अब जा कर क्या करुँगी?
इस दूर देश में
डर लगता है 
अपने से , अपनों से 
आँख में आंसू छुपाये 
अब जा क्र क्या करुँगी ?






Monday, 1 August 2011

आने के ही साथ जगत में कहलाया 'जानेवाला', स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी,

there is a terrible pain in my heart, to think my mom is going.I have this woozy feeling in my brain, and eyes which wants to cry a lot but cant because i have to be strong and have to show the world that nothing bothers me.
i am just so tired of pretending, so very tired, i dont want my mom to go. i love having her here.

but as bachan says
 आने के ही साथ जगत में कहलाया 'जानेवाला',
स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी,
so who ever has come has to go so why the pain? why does it hurt so much?

Sunday, 31 July 2011

Mirza Ghalib (how true)

wish i knew what made you write this


यह संग्दिलों की दुनिया है 
यहाँ संभल के चलना ग़ालिब
यहाँ पलकों पे बिठाया जाता है
नजरों से गिराने के लिए