Thursday, 29 December 2011

यह जिंदगी हमारी ,
जो जिंदगी से कम है  
किसने क्या था पैदा,
किसने किया था जारी
यह मेरी -तुम्हारी  कहानी
यह मेरी -तुम्हारी  जुदाई
यह हमने किया थे पैदा
यह हमने किया था जारी
जीना बुरा नहीं है
कितना भी दुःख भरा हो
कितना भी  बेमज्ज़ा हो
यह जिंदगी हमारी
जो जिंदगी से कम है
मुझको भी है जीना
तुझको भी है जीना
आओ आज जीयें हम
परछाइयों   से निकल कर
वो जो कल था तुम्हारा
वो जो कल था हमारा
पीछे चला गया  है
आज, जो हमारा
बाजु में  आ खड़ा है
आओ इसे गले लगा लें
आओ आज जीयें हम
परछाइयों  से निकल कर
यह जिंदगी हमारी
जो जिंदगी से कम है .....






No comments: