Thursday, 15 December 2011

chahat.

अभी तो चाहत हूँ तुम्हारी.
जब जरूरत मैं बन जाउंगी
तब हिसाब कर लेंगे............

No comments: