Sunday, 18 December 2011

फिर तुम्हे हाले दिल सुनाया न गया.

मेरी मुस्कराहट  देख कर जो हँस पड़े थे तुम
फिर तुम्हे  हाले दिल सुनाया न गया.............

No comments: