Thursday, 27 October 2011

एक मोड़

एक मोड़  खड़ी उदास सी 
जाकर मिलती है चौराहे से
संकुचित सी , अकेली सी
डरती है , जमाने से.........
किन लोगों से मिलना होगा
किन लोगों का सहना होगा
आते जाते कितने लोग 
रोंदेंगे  छलनी मन  को
तब ही  रुकना होगा
जब भी रुकेगा चौराहा 
और अगर चला  चौराहा
तब चलना होगा मोड़ को
युही, ऐसे ही बीती है मोड़
युही,  ऐसे ही जीती है मोड़









Wednesday, 26 October 2011

Happy Diwali (Monu is not here)

दीयों की लम्बी कतार,
इंतज़ार कर , फिर बात करती है
जलते  रहना, दिवाली की रात
अपनी भी बारी आई है.........

Monday, 24 October 2011

हम-तुम

चलो अच्छा हुआ जो छुट गया
तेरा, मुझसे मिलना  और बिछरना 
अब हर रोज, कभी-कभी  
आदतन, तुझे  याद करेंगे हम   






Sunday, 23 October 2011

My heart

oh my heart,
my beautiful heart,
stop breathing,
it hurts, when you breathe
it hurts when you stop
sometimes, i wish
to put you in lock
 visit you and
tell you the stories
of the world around
of the lost love's
and the love's found.
i wish you just could hear
and not feel the sound
of the everyday gloom
i wish i could just touch
and tell, and laugh loud
and you can hear the laugh
but not feel the sad sound
hope you are ok
my heart
my beautiful heart.