Thursday, 3 November 2011

My heart.

No questions asked
do you remember how 
I walked behind you...
my body draped in the 
red and golden saree
and my soul
completely naked of any thoughts
No past, no future,
just a tiny red dot on my head
No question asked
I walked behind you and
climbed the stairs,
the room , the bed
and stayed and prayed
and lived in the corner 
of my heart, 
wishing and praying,
laughing and crying 
for the good and bad
No question asked
I have lived a lot
traveled a lot,
lost and found some friends 

NOW, Lately....
The corner of my heart
asks me, every day
WHO ARE YOU??
HOW LONG WILL YOU STAY??

Sunday, 30 October 2011

A Gift.


तुम्हे किस बात का डर है , जाने किस बात का डर हैं
अभी तुमसे मिला नहीं , बस बिछर जाने का डर है


तजुर्बा बेशक सिखलागा ,गलतियाँ दोहराने का डर है
अभी अभी सवेरा था, बस रात होने का डर है


सोना चाहता हूँ बहुत बस नींद के आने का डर है
आंखे बंद कर लूँ मगर ख्वाब आने का डर है


पहुँच चूका हूँ वहां बस मंजिल मिल जाने का डर है
रास्ते मिले बहुत ,उनमे भटक जाने का डर है


सांस तो बाकी है जिन्दा रहने का डर है
मौत आजाये अभी , रूह के भटकने का डर है














हम-तुम

हम-तुम 

हम तो ऐसे ही तुम्हे याद किया करते हैं
तुम कहो हमारी यादे कहाँ भूल आते हो ?