Friday, 23 December 2011

दिल

हमको  मालूम इतना की आप कितने  व्यस्त से हैं
दिल को मेरे, यह समझा कर जाना था......




Thursday, 22 December 2011

dil


दिल  सुलगता है, सिसकता है और रोता है
बस एक हम हैं की कुछ कह नहीं पाते..........



साया मेरा,

साया मेरा, कुछ रूठ सा गया है मुझसे
हर मोड़ पे वो साथ तुम्हारे जाता है............

Tuesday, 20 December 2011

मेरी मुस्कान


मेरी मुस्कान भी कहीं बेठी होगी
तुम्हारे साथ ही हाँथ मेरा उसने छोड़ा था...

Monday, 19 December 2011

suraj

क्या सूरज ने आज फिर छुट्टी की है?
या फिर किसी डाल पर  ऊँघता होगा.....
रोज , हर रोज,टूटे ही दिन, प्यासी शाम ,
दिल के किसी दर्द से बोझिल सोया होगा....



बात सिर्फ इतनी है

बात सिर्फ इतनी है 
की बस इतनी सी बात है
तेरे अलफ़ाज़ को हमने ही
वादा समझ लिया...........
तू कह  चुका  कई बार
की कल देखेंगे..
हमने ही अपने आज को
कल समझ लिया......

Sunday, 18 December 2011

मेरा दिल

करो इंतज़ार मेरा, कहा है उसने.
मेरा दिल चौखट पर सर झुकाय बैठा है ...........

फिर तुम्हे हाले दिल सुनाया न गया.

मेरी मुस्कराहट  देख कर जो हँस पड़े थे तुम
फिर तुम्हे  हाले दिल सुनाया न गया.............