Saturday, 21 January 2012

(मीना कुमारी)

कई उलझे हुए खयालात का मजमा है मेरा वजूद
कभी वफ़ा से शिकायत , कभी वफ़ा मौजूद ..... 





No comments: