Tuesday, 17 January 2012

mirza ghalib

जिस ज़ख्म की हो सकती हो तदबीर रफू की
लिख दीजियो या रब उसे किस्मत में अददु की 


अददु  ------- dushman







No comments: