Tuesday, 17 January 2012

मेरी ही अमानत हैं.

मेरे मुकद्दर में तू नहीं है, न सही
यादे तेरी, तो मेरी ही अमानत हैं.....

No comments: