Wednesday, 8 February 2012

मेरे लफ्ज़

होठों पर रखे लफ्ज़ मायूस से हैं मगर
पहले दिल की ,फिर मेरी, तब लफ्जों की बारी है....

No comments: