Sunday, 5 February 2012

मिर्ज़ा ग़ालिब



या रब वो न समझे हैं न समझेंगे मेरी बात 
दे और दिल उनको, न दे मुझको जुबान और 

No comments: