Tuesday, 14 February 2012

valentines day 2012

तेरी ख़ुशरंग उदासी में जो सन्नाटा है,
मैं उसको अपने कहकहों से आ गुलज़ार करूँ ...
तेरी ये शर्त कि बस एक बार मिलना हो,
मेरी ये ज़िद है कि बस एक बार प्यार करूँ ..."

No comments: