Thursday, 2 February 2012

दिल

दिल में कुछ नमकीन सा लगता है
आसूंओं की भी क्या जुबान हुआ करती है ????

No comments: