Saturday, 4 February 2012

Faiz poetry



कर रहा था गम-ए-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बेहिस्साब आये 

No comments: