Thursday, 9 February 2012

mirza ghalib

ये जिद , की आज न आवे और आये बिन न रहे 
क़ज़ा से शिकवा हमें किस क़दर है, क्या कहिये 

No comments: