Sunday, 26 February 2012

सिर्फ आज रात के लिये

रात , सिर्फ आज रात के लिये
तेरी स्याही जरा उधार ले लूँ
दिल का एक कोना है जरा सुनसान सा
तेरी सिहाई से उसकी  तस्वीर बना लूँ

No comments: