Sunday, 5 February 2012

यह जो वक्त है

यह जो वक्त है
वो गया नहीं 
कभी कहीं से 
आया नहीं
हम रोज सोचते रहे
की आज नयी सुबह है
की आज  नयी रात है 
यह जो वक़्त है
वो ठहरा  रहा
हम रोज भागते रहे
कभी उसकी तलाश में 
कभी अपनी तलाश में
यह वक़्त कभी 
रुका  नहीं
कभी कहीं थका  नहीं
हम रोज उम्र गुजार कर
उही कहीं जीते रहे
मुझे सिर्फ एक तलाश है
सिर्फ वक़्त की तलाश है.







No comments: