Saturday, 3 March 2012

मैं और तुम

हर शाम ख्वाब, मेरे आँखों की सरहदों तक जा
दूर जाती तेरी याद को धूमिल होते देखते हैं........

No comments: