Sunday, 29 April 2012

हाल -ए-दिल

मैं नहीं जानती हाल -ए-दिल या दिल-ए -हालात की मजबूरी
दिल-ए-बर्बाद कितना है,इसका हिसाब लेना है ??




No comments: