Friday, 13 April 2012

Faiz Ahmed Faiz

राज-ए-उल्फत छुपा के देख लिया
दिल बहुत कुछ जला के देख लिया
और क्या देखने को बाक़ी है
आप से दिल लगा के देख लिया 



No comments: