Saturday, 28 April 2012

जिंदगी

गम -ए-जिंदगी, तुझसे  ये मिन्नत है
दो पल के लिए ही सही , ख़ुशी को आने दे

No comments: