Monday, 30 April 2012

मै और मेरा दिल


चलो अब मान ली हार तुझसे ए दिल
अब न तडपा मुझे, जितना खुद तड़पता है ....

No comments: