Sunday, 29 April 2012

मैं और मेरी तन्हाई

 हर पल  की  धडकन 
मेरी तनहाइयों को
एक नया संगीत सुनती हैं
मैं अक्सर सोच के  रह जाती हूँ
की यह जो पल है
और जो मेरी तन्हाई है
वो युहीं मेरे आस-पास क्यूँ रहती हैं







No comments: