Sunday, 1 April 2012

तुम हो, तो मैं हूँ



तुम हो, तो मैं हूँ
मैं हूँ ,तो तुम हो
हर पल हर छन तुम 
जैसे रोम रोम में बसे 
अपनी यादों सेकहो 
कहीं और जा बसे
हम काट चुके जिंदगी
यहाँ और न रुके

No comments: