Friday, 6 April 2012

हर सोंच में सोचती हूँ तुझको


हर सोंच  में सोचती हूँ तुझको
तू बता मुझको भी सोचता है कभी
हर सोंच सोचती है की तुझे सोचने से पहले
इस दुनिया में सोंच की कोई सोंच नहीं थी.....


No comments: