Sunday, 8 April 2012

मैं और तुम

यह कैसी प्यास है जो
तुम बिन अधूरी सी रहती है
जला कर दिल, जिगर और जान
भी कुछ बेचैनी सी रहती है..........


No comments: