Monday, 23 April 2012

unknown


अब न मांगेंगे ज़िन्दगी या रब 
यह गुनाह हमने एक बार किया....

No comments: