Sunday, 8 April 2012

या रब

या रब मुझे यूँ रुलाता है किस लिये
तेरी  भी क्या कोई दुआ पूरी नहीं हुई???////

No comments: