Sunday, 27 May 2012

चाँद




चाँद, रात भर जगो मेरे साथ 
मैं अपने दिल की बात कहूँगी 
तुम अपना दर्द बताना
युहीं बाते बतियाते रात कट जाएगी
और तुम सो रहना सूरज की सफ़ेद चादर पर
और मैं निकल पडूँगी  जिंदगी निभाने ....


No comments: