Thursday, 31 May 2012

इच्छा



इच्छाओं की जबान होती तो कहती तुमसे
की रोज कई बार मर मर के थक चुकी हूँ मैं...........

No comments: