Friday, 4 May 2012

दर्द


कितना दर्द है , क्या है, क्यूँ है
 दर्द की तराजू में तोलूँ कैसे
दिल है तो दर्द है लोगों ने कहा
मेरे दर्द को दिल उठाता क्यों है 

No comments: