Friday, 4 May 2012

मैं और तुम


युहीं चलते चले मंजिल की खोज में 
तेरे साथ मंजिल भी दूर होती गयी......

No comments: