Saturday, 12 May 2012

हाँ बस ऐसा ही है



 हाँ बस ऐसा ही है 
हम दोनों है अकेले 
फिर भी साथ साथ चलते 
युहीं जब अचानक दूर 
की आकृति ,तुमसी, दिख जाए 
मन जाकर छु आये 

बस अब ऐसा ही है 
आएना पर धुआ सा 
जब साफ़ करने जाओ 
तुम्हारा  मुस्कराता चेहरा 
हांथो पर लिपट जाए 

हाँ बस ऐसा ही है 
भगदड़ भरी जिंदगी में
तुम्हारी  हंसती हुई खिलखिलाहट 
अकेला सा एक लम्हा बन 
दिल को छु जाये 

बस अब ऐसा ही है 
सांसो में तुम्हारी  खुशबू 
आँखों में बंद सपने 
होठो पर प्यार रख कर 
साए सा छु कर निकले 

हाँ बस ऐसा ही है 
हम दोनों है अकेले 
पर साथ साथ चलते .....


No comments: