Tuesday, 22 May 2012

मैं और तुम

तुम नहीं  आये ,बहार फिर भी आई है 
हसीं हरयाली से जख्म फिर हरा हो उठा .... 

No comments: