Tuesday, 22 May 2012

मैं और तुम

मौत आई है, पूछती है की कब चलना है ?
तेरा इंतज़ार करूँ की मौत को वक़्त दे दूँ ?

No comments: