Wednesday, 6 June 2012

मैं


खुद को तलाशती  फिरती हूँ हर पल हर घडी
खुद ही खुद से रुसवा हो चली गयी थी कहीं 

No comments: