Thursday, 7 June 2012

ए खुदा कुछ और बाकी है

इतनी बेचैन रूह
इतना तनहा दिल
ए खुदा कुछ और बाकी है 
या सब मुझपर लुटा दिया 

No comments: