Sunday, 24 June 2012

गुलाबी गुरुर






गुलाबी गुरुर , आसमानी आसमान 
सफेद बादल रात के अँधेरे में गुम हो जाते हैं।
रह जाते हैं कई शिकवे ,अनकही बातें, तरसते ख्वाब 
चाँद के चेहरे पर जा महफ़िल लगाते हैं।....... 
(वंदना)

No comments: