Wednesday, 6 June 2012

शाम


"शाम,"उदास सी  चुपचाप सी चली आइ है

जैसे "रात" को आज चाँद निगलने वाला  है ............

No comments: