Thursday, 21 June 2012

किस्मत


कभी किस्मत से मिल गयी "किस्मत"
तो पुछ लूंगी की इतनी नाराज़ क्यूँ है  

No comments: