Saturday, 9 June 2012

jindagi-e-maut


एक मेरी आह जीने नहीं देती
एक तेरी चाह मरने  नहीं देती
दोजख शायद इसी का नाम है 

No comments: