Saturday, 16 June 2012

हम तुम

मन के आँगन में जहाँ 
तुम -हम  रोज मिलते हैं 
तुम मुझे  "मीत" कहना
मैं तुम्हे  "नीर" पुकारूगी



No comments: