Friday, 8 June 2012

shyrayaar


यूं डोरे को हम वक्त की पकड़े तो हुए थे
एक बार मगर छूटी तो फिर हाथ न आयी
हमराह कोई और न आया तो क्या गिला
परछाई भी जब मेरी मेरे साथ न आयी 

No comments: