Thursday, 5 July 2012

नींद

चलो अब नींद को चुपके से बुलाया जाये
कहीं मालूम न हो आँखों को , की मैं सोने चली।.........

No comments: