Tuesday, 17 July 2012

मैं और तुम

हम आपके नज्मो से कुछ शेर चुरा लें तो
हम आपको अपनी आँखों में छुपा लें तो 
मालूम है की मिलती है मोहब्बत किस्मत से 
हम आपको अपनी किस्मत बना लें तो    


No comments: