Thursday, 19 July 2012

यह मेरे दिल की खता नहीं


तुमने जब कल मुझसे कहा "सुनो"
उसके पहले मैने कुछ सुना नहीं
मैने जब कल तुम्हे  देखा
उसके पहले मैने कुछ देखा नहीं
यह प्यार है या भ्रम है
यह जो भी है , मुझे गिला नहीं
यह तुमसे मिलने का सरुर है ?
या है यह मेरी दीवानगी ?
यह जो भी है , मुझे यकीन है
यह मेरे दिल की खता नहीं






No comments: