Thursday, 19 July 2012

होंसले मेरे क़ैद हैं कई जन्मो से


होंसले मेरे क़ैद  हैं कई जन्मो से
ये भी झिझकते हैं पहल करने को 
चलने को संग मेरे तैयार हैं 
मेरी तन्हाई और मेरी रुसवाई 

No comments: