Thursday, 9 August 2012

मेरी आँख में तेरा अक्स है

मेरी आँख में तेरा अक्स है
तू कहीं नहीं है मेरे सामने
आंसू भी मैं बहा न सकूँ
तू छलक न जाये मेरे सामने



No comments: