Monday, 20 August 2012

तुम रहो बस ज़रा चुप चुप

फलक तक बात पहुँचने दें
जमीं को और सुलगने दें
तुम रहो बस ज़रा चुप चुप
ख़ामोशी को बात करने दें 

No comments: